History of watch: Gadhi ka avishkar kisne kiya hain

नमस्कार दोस्तों, आज की पोस्ट में हमने आपके साथ gadhi ka avishkar kisne kiya hain, घड़ी कब बनी, who invented clock, घड़ी के जनक कौन है, घड़ी से संबंधित आपको इस पोस्ट में हर जानकारी दी गई है,

अगर आप घड़ी से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारी इस पोस्ट को पूरा अवश्य पढ़ें, तो आइए जानते हैं घड़ी के बारे में।

Contents

घड़ी क्या है | घड़ी कैसे चलती है

घड़ी के अंदर अनेकों पहिए लगे होते हैं, जो किसी पतनशील भार द्वारा या कमानी के द्वारा उत्पन्न ऊर्जा से चलती है, इस तरह की पतनशील भार से चलने वाली घड़ी आज से तकरीबन सैकड़ों वर्षो पूर्व बनाई गई थी,

Gadhi ka avishkar kisne kiya hain

दोस्तों घड़ी एक ऐसा यंत्र है जो समय को दर्शाती है, जैसे 1 दिन में 24 घंटे होते हैं और 1 घंटे में 60 मिनट और 60 मिनट में 60 सेकंड, उसी तरह घड़ी में 3 सुई होती है और हर सुई का अलग-अलग कार्य होता है, जैसे एक सुई घंटा बताती है, दूसरी सुई मिनट बताती है और तीसरी सुई सेकंड बताती है।

पर आज के समय की बात की जाए तो आज काफी ज्यादा एडवांस स्मार्ट घड़ियां मार्केट में आ चुकी है जिनकी आगे हमने विस्तार पूर्वक जानकारी दी है, घड़ी को शुरुआत में समय सूचक यंत्र के नाम से जाना जाता था पर जैसे-जैसे घड़ी में बदलाव होते गए समय बदलता गया तो उसके बाद इस यंत्र का नाम घड़ी रख दिया गया था,

हमें उम्मीद है अब आपको पता चल गया होगा घड़ी क्या है या घड़ी किसे कहते हैं।

भारत की सबसे लंबी सुरंग: भारत की सबसे लंबी सुरंग कौन कौन सी है इसकी जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां दिए लिंक पर क्लिक करें।

Gadhi ka avishkar kisne kiya | घड़ी कब बनी

घड़ी हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा है क्योंकि घड़ी हमें समय कितना हुआ, अभी कितने बजे हैं टाइम क्या हुआ है, इस तरह से घड़ी हमें सुबह से लेकर रात तक का हर पल हर समय बताती रहती है,

Gadhi ka avishkar kisne kiya: आपको बता दें सबसे पहले घड़ी का आविष्कार Peter Henlein ने वर्ष 1505 में किया था, यह ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने क्लॉक वॉच का आविष्कार किया था इनकी बनाई घड़ी बहुत ही सटीक समय बताती थी।

Follow US

axialwork.com से जुड़ने के लिए आप हमें google news पर फॉलो कर सकते हैं, ताकि आपको हमारी वेबसाइट की ज्ञानवर्धक जानकारियां समय-समय पर मिलती रहे।

अभी फॉलो करें

 

Peter Henlein के तकनीक का इस्तेमाल करके और भी कई घड़ियां बनाई गई जो कि छोटी और थोड़ी एडवांस थी। घड़ी के आविष्कार का श्रेय पॉप सिल्वेस्टर द्वितीय को भी दिया जाता है क्योंकि इन्होंने सन् 996 ईसवी में एक ऐसा यंत्र बनाया था जो सटीक समय बताता था।

वर्ष 1288 तक इंग्लैंड के घंटाघरों में घड़ियां लगना शुरू हो गई थी और वर्ष 1577 में घड़ी की मिनट वाली सुई का आविष्कार जोश बरगी ने किया था जो कि स्विजरलैंड के निवासी थे।

ट्रेन का आविष्कार: ट्रेन को कब और किसने बनाया है ट्रेन का आविष्कार किसने किया है इन सवालों से संबंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां दिए लिंक पर क्लिक करें।

घड़ी के आविष्कार का इतिहास

घड़ी के इतिहास की बात की जाए तो सबसे पहले घड़ी की शुरुआत 16वीं शताब्दी में की गई थी, घड़ी का आविष्कार सबसे पहले 16वीं शताब्दी में जर्मनी देश के नूर्नबर्ग और ऑग्सबर्ग शहर में किया गया था।

कुछ समय बाद 17 वीं शताब्दी में घड़ी का आविष्कार काफी तेजी से होने लगा, हाथ में बांधने वाली घड़ी के साथ ही जेब में रखने वाली घड़ी यानी पॉकेट वॉच का आविष्कार भी इसी शताब्दी में किया गया। इसी शताब्दी में लड़कियों के लिए कलाई घड़ी का अविष्कार भी किया गया।

वर्ष 1950 में सबसे पहले इलेक्ट्रॉनिक घड़ी का आविष्कार किया गया था और फिर धीरे-धीरे टेक्नोलॉजी के साथ वर्ष 2010 तक स्मार्ट वॉचेस का आविष्कार भी होने लगा।

Rich man: दुनिया का सबसे अमीर आदमी कौन है इसकी जानकारी विस्तार पूर्वक प्राप्त करने के लिए यहां दिए लिंक पर क्लिक करें।

घड़ी के अविष्कार से पहले समय का पता कैसे चलता था

घड़ी के अविष्कार से पहले समय का पता लगाना काफी मुश्किल हुआ करता था, सटीक समय पता लगाने के लिए काफी ज्यादा मेहनत करनी पड़ती थी लेकिन फिर भी कुछ ना कुछ कमी हो ही जाती थी। प्राचीन समय में लोग समय का पता लगाने के लिए बहुत सी चीजों का इस्तेमाल किया करते थे।

प्राचीन काल में इंसान सूरज की विभिन्न अवस्थाओं के आधार पर समय का अंदाजा लगाया करते थे और कभी-कभी सही समय जानने के लिए लोग शंकुयंत्र और धूपघड़ियों का भी इस्तेमाल किया करते थे।

उस दौरान रात के वक्त, समय का पता लगाने के लिए चांद, तारो तथा नक्षत्रों को साथ रखकर समय का पता लगाया जाता था।

सबसे अमीर देश: किस देश के पास कितना पैसा है या कौन सा देश सबसे ज्यादा अमीर है इस जानकारी को प्राप्त करने के लिए यहां दिए लिंक पर क्लिक करें।

घड़ी से जुड़ी रोचक जानकारी

No 1: दुनिया की प्रसिद्ध पॉकेट वॉच में किंग हेनरी VIII का चित्र बना था।

No 2: प्राचीन समय में घड़ियों के कई रंग हुआ करते थे लेकिन सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाली और उपहार दिए जाने वाली घड़ी का रंग काला ही हुआ करता था।

No 3: पॉकेट वॉच का अलग ही महत्व था क्योंकि इसे पहन के अमीरों वाला एहसास प्राप्त होता था और यह घड़ी अन्य घड़ियों से महंगी होती थी।

No 4: कलाई घड़ी का अविष्कार मूल रूप से महिलाओं के लिए किया गया था।

No 5: दुनिया की सबसे महंगी घड़ी वर्ष 2017 में बिकी थी जिसकी कीमत $17.8 मिलियन थी और इस घड़ी का नाम रोलेक्स डेटोना था।

No 6: संस्कृत में घड़ी को घाटिका कहा जाता है।

History of India: भारत की खोज किसने की थी, भारत की खोज का श्रेय किसे दिया जाता है, यह जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां दिए लिंक पर क्लिक करें।

घड़ी कितने प्रकार की होती है? | Ghadi kitne prakar ke hote hain

दोस्तों घड़ी मुख्य रूप से पांच प्रकार की होती है।

  • डिजिटल घड़ी
  • स्मार्ट घड़ी
  • मीटर घड़ी
  • अलार्म घड़ी
  • इलेक्ट्रॉनिक घड़ी

No 1: डिजिटल घड़ी

डिजिटल घड़ी का आविष्कार वर्ष 1972 में हैमिल्टन वॉच कंपनी के द्वारा किया गया था और उस गाड़ी का नाम पल्सर टाइम कंप्यूटर था। डिजिटल घड़ी एनालॉग घड़ी के विपरीत समय को डिजिटल रूप से प्रदर्शित करती है।

No 2: स्मार्ट घड़ी

स्मार्ट वॉच एक डिजिटल पोर्टेबल डिवाइस है, जो कंप्यूटर की तरह स्मार्ट होती है यह एक प्रकार की डिजिटल घड़ी है जो हमारे स्मार्टफोन की तरह काम करती है इस घड़ी में स्मार्टफोन में मिलने वाले हर फीचर्स मिलते है। स्मार्ट घड़ी का आविष्कार वर्ष 2010 में किया गया था।

No 3: मीटर घड़ी

मीटर घड़ी का इस्तेमाल ज्यादातर मोटरसाइकिल या बड़ी वाहनों के लिए किया जाता है। वाहनों में लगा स्पीडोमीटर हमें वाहन की इंस्टेंट स्पीड को बताता है, वाहनों में लगा टेक्नो मीटर हमें इंजन की स्पीड के बारे में बताता है और वाहनों में लगा ओडोमीटर हमें बताता है कि हमने अपने वाहन से कितनी लंबी दूरी तय करी है।

No 4: अलार्म घड़ी

अलार्म घड़ी का आविष्कार Levi Hutchins द्वारा वर्ष 1787 में किया गया था, यह घड़ी एक ऐसी घड़ी है जो कि किसी व्यक्ति को एक निर्दिष्ट समय में सजग करने के लिए बनाई गई है। इस घड़ी का काम किसी व्यक्ति को रात की नींद या छोटी झपकी से उठाना है।

No 5: इलेक्ट्रॉनिक घड़ी

इलेक्ट्रॉनिक घड़ी एक ऐसी घड़ी है जो कि बिजली द्वारा संचालित है, इस घड़ी का आविष्कार वर्ष 1840 के आसपास किया गया था, लेकिन इस घड़ी को मार्केट में तब तक नहीं लॉन्च किया गया जब तक कि यह घड़ी मेन इलेक्ट्रिक पावर में उपलब्ध नहीं की गई थी।

घड़ी में 10:10 क्यों रहता है? | नई घड़ी की सुइयां 10:10 पर ही क्यों रहती है।

जिस वक्त घड़ी पर 10:10 होते हैं उस वक्त घड़ी पर अंग्रेजी अक्षर V का आकार दिखाई पड़ता है। V आकार को विक्टरी मतलब की जीत से जोड़ा जाता है। यही कारण है कि विश्व भर की घड़ी निर्माता कंपनियों की सुई हमेशा 10:10 पर ठहरी रहती हैं।

History of pizza: सबसे पहले दुनिया में पिज्जा किसने बनाया था, पिज़्ज़ा का आविष्कारक कौन है, यह जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां दिए लिंक पर क्लिक करें।

FAQ’s

Q1: घड़ी के जनक कौन हैं?

Ans: Peter Henlein को घड़ी का जनक कहा जाता है।

Q2: घड़ी कब बनी थी?

Ans: घड़ी वर्ष 1505 में बनी थी।

Q3: कलाई घड़ी का आविष्कार कब हुआ?

Ans: 17वीं शताब्दी में कलाई घड़ी का आविष्कार हुआ था।

Q4: घड़ी का आविष्कार क्यों हुआ?

Ans: घड़ी का आविष्कार सटीक समय जानने के लिए किया गया था।

Q5: घड़ी का आविष्कार कब और किसने किया?

Ans: घड़ी का आविष्कार सबसे पहले Peter Henlein ने वर्ष 1505 में किया था।

Q6: सबसे पहले घड़ी का आविष्कार किसने किया?

Ans: Peter Henlein

Q7: सबसे पहली परमाणु घड़ी कब बनी थी?

Ans: वर्ष 2013 में सबसे पहले परमाणु घड़ी का आविष्कार किया गया था।

होम पेज पर जाएंयहां क्लिक करें

आगे और पढ़ें:

Conclusion: निष्कर्ष

आज के इस लेख में हमने जाना की gadhi ka avishkar kisne kiya, घड़ी कब बनी, who invented clock, घड़ी के जनक कौन है और इस लेख में हमने यह भी जाना की घड़ी क्या है या घड़ी की जरूरत हमें क्यों पड़ी,

यदि आपके मन में घड़ी के आविष्कार से जुड़ा कोई भी सवाल है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं, अगर आपको हमारा यह लेख who invented clock पसंद आया हो तो लाइक और शेयर अवश्य करें।

लेखिका का नाम: माही जयसवाल

Rate this post

Leave a Comment

2 × 1 =