Wedding ko hindi mein kya kahate Hain | Wedding meaning in hindi

आज की पोस्ट मैं हमने आपको wedding ko hindi mein kya kahate hain, wedding meaning in hindi, भारत में शादी किस प्रकार होती है, शादी के लिए क्या जरूरी है, शादी के कितने दिन बाद तलाक ले सकते हैं आदि के बारे में विस्तार से बताया गया है।

यदि आप Wedding ko hindi mein kya bolate hain या शादी से जुड़ी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारी आज की इस पोस्ट को पूरा अवश्य पढ़ें।

Wedding ko hindi mein kya kahate Hain Wedding meaning in hindi

Wedding ko hindi mein kya kahate hain | Wedding meaning in hindi

वेडिंग शब्द से लगभग सभी लोग वाकिफ होंगे और सभी लोग जानते ही होंगे कि वेडिंग क्या है अगर बात करें कि वेडिंग को हिंदी में क्या कहा जाता है तो आपको बता दें वेडिंग को हिंदी भाषा में शादी, विवाह और ब्याह के नाम से जाना जाता है।

इसे भी पढ़ें: Noob meaning in hindi, Noob किसे कहते हैं?

Wedding को किन-किन नामों से जाना जाता है?

वेडिंग को हिंदी में क्या कहते हैं?शादी, विवाह और ब्याह
वेडिंग को संस्कृत में क्या कहते हैं?विवाह
वेडिंग को गुजराती भाषा में क्या कहते हैं?લગ્ન, शादी
वेडिंग को उर्दू भाषा में क्या कहते हैं?निकाह, निकाह पढ़ना
वेडिंग को बंगाली भाषा में क्या कहते हैं?বিবাহ, मैरिज, विवाह
शादी को अंग्रेजी भाषा में क्या कहते हैं?Marriage, Wedding

इसे भी पढ़ें: Hindi ko English mein kya kahate hain

Wedding ke sentence ka Hindi to English translation

  • वेडिंग क्या है?
  • What is wedding?
  • वेडिंग की हिंदी क्या होती है?
  • What is the Hindi meaning of wedding?
  • वेडिंग को हिंदी में क्या कहते हैं?
  • What is wedding called in Hindi?
  • इंग्लिश में शादी को क्या बोलते हैं?
  • How to say marriage in English?
  • हैप्पी वेडिंग डे का मतलब क्या है?
  • What is the meaning of Happy Wedding Day?
  • क्या आपकी शादी हो चुकी है?
  • Are you married?
  • मुझसे शादी करोगी?
  • Will you marry me?
  • मेरी शादी कब होगी?
  • When will I get married?
  • शादी की सालगिरह मुबारक!
  • Happy anniversary
  • शादी में जरूर आना।
  • Be sure to come to the wedding.

इसे भी पढ़ें: Infinix kaha ki company hai

वेडिंग किसे कहते हैं | What is wedding

विवाह या शादी जिसे हम आदि नामों से जानते हैं यह एक ऐसा संबंध है जो किसी भी व्यक्ति के जीवन में सिर्फ एक बार ही आता है। शादी जैसे पवित्र बंधन में वर और वधू एक दूसरे का साथ देने के लिए प्रतिबद्ध होकर अपना सुखमय जीवन व्यतीत करते हैं।

शादी एक ऐसा रिश्ता है जहां दो आत्माओं का मिलन होता है, और इस बंधन के द्वारा दोनों आत्माएं मिलकर एक हो जाती हैं एवं वह पति पत्नी के रूप में अलग अलग दिखाई देते हैं, उनके विचार उनके गुण और उनके कामों में समानता देखने को मिलती है।

शादी के प्रकार | Types of marriage

हमारे समाज में प्रचलित विवाह कई प्रकार के होते हैं जो निम्नलिखित हैं।

  • प्रेम विवाह
  • पिशाच विवाह
  • ब्रह्म विवाह
  • गंधर्व विवाह
  • प्रजापत्य विवाह
  • आर्ष विवाह
  • प्रतिलोम विवाह
  • अनुलोम विवाह

इसे भी पढ़ें: जलेबी को इंग्लिश में क्या कहते हैं

शादी की विशेषताएं

शादी के कुछ मुख्य विशेषताएं हैं जो कि निम्न प्रकार से हैं।

स्थाई संबंध (permanent relationship):- शादी एक स्थाई संबंध है, क्योंकि इस संबंध में शादी के वक्त लोग अग्नि को साक्षी मानकर सात फेरे लेते हैं अतः यह संबंध सात जन्मो के लिए बन जाता है, आधुनिक काल में भी विवाह के संबंध को सबसे ज्यादा स्थाई माना गया है क्योंकि लोग 25 वर्ष की उम्र में शादी करने के बाद मृत्यु तक साथ ही रहते हैं।

दो आत्माओं का मिलना (the unian of two souls):- शादी एक ऐसी प्रक्रिया है जहां दो आत्माओं का मिलन होता है, जो शादी जैसे पवित्र बंधन में 7 जन्मों के लिए बंघ जाते हैं। यहां दोनों आत्माएं दो अलग-अलग शरीर में तो रहती हैं लेकिन उनके विचार उनकी सोच उनके कार्य में समानता होती है अगर किसी के रिश्ते में समानता नहीं है तो वह रिश्ता ज्यादा दिन तक कायम नहीं रहता।

शादी के उद्देश्य

शादी किसे कहते हैं इसकी क्या विशेषताएं हैं यह तो हमने समझ लिया लेकिन अब समझते हैं कि शादी का मुख्य उद्देश्य क्या है।

संस्कृति का हस्तांतरण (transfer of culture):- शादी के द्वारा ही हमारी संस्कृति का हस्तांतरण होता है, क्योंकि जब हमें संतान की उत्पत्ति होती है तो हम अपनी संतान को अपनी संस्कृति और संस्कार प्रदान करते हैं और इस तरह से हमारी संस्कृति एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक पहुंचती है।

नए अधिकार और नए कर्तव्यों का निर्माण (creation of new rights and duties):- जब तक किसी व्यक्ति की शादी नहीं हो जाती तब तक उसके अधिकार उस तक और उसके माता-पिता तक ही सीमित होते हैं, लेकिन जब व्यक्ति शादी करता है तो वह अपने नए अधिकार और नए कर्तव्य से जुड़ता है और व्यक्ति के ऊपर कई जिम्मेदारियों का बोझ आ जाता है।

नए परिवार का निर्माण (new family buildings):- जब कोई व्यक्ति शादी करता है तो वह अपने नए परिवार का निर्माण करने के लिए तैयार हो जाता है शादी करने से परिवार में नए व्यक्ति का आगमन होता है जिससे परिवार में स्थिरता बनी रहती है और अगर विवाह ना हो तो समाज में हर व्यक्ति अकेला ही रह जाएगा।

इसे भी पढ़ें: Spouse hindi meaning, स्पाउस को हिंदी में क्या कहते हैं?

FAQ’s

Q1: शादी के लिए क्या जरूरी है?

Ans: शादी के लिए जरूरी है कि उस रिश्ते में प्यार हो अगर रिश्ते में प्यार नहीं होगा तो वह ज्यादा दिन तक टिकेगा नहीं। इसके अलावा शादी के लिए हमें अपनी उम्र का भी ध्यान रखना चाहिए अगर कोई लड़की है तो उसकी उम्र 18 वर्ष होनी चाहिए और अगर कोई लड़का है तो उसकी उम्र 21 वर्ष होनी ही चाहिए तभी वह शादी जैसे रिश्ते में बंध सकता है।

Q2: शादी के कितने दिन बाद तलाक ले सकते हैं?

Ans: शादी करने के बाद अगर यदि कोई व्यक्ति तलाक लेना चाहता है तो उसे 1 साल तक का इंतजार करना होगा 1 साल के बाद ही आप तलाक के लिए याचिका डाल सकते हैं।

Read More Post:

Conclusion: निष्कर्ष

हमें उम्मीद है आपको हमारी पोस्ट “wedding ko hindi mein kya kahate hain, wedding meaning in hindi, भारत में शादी किस प्रकार होती है, शादी के लिए क्या जरूरी है,” पसंद आई होगी, हमारी इस पोस्ट से संबंधित आपके मन में जो भी सवाल हो आप उन्हें कमेंट के द्वारा हमसे पूछ सकते हैं,

इसी तरह से आगे भी ज्ञानवर्धक जानकारी प्राप्त करते रहने के लिए हमारी वेबसाइट को subscribe करें, धन्यवाद।

Share This Post:

Leave a Comment